मैं एक छात्र हूँ और मैं ग्रेजुएट होने वाली हूँ। मैं अपनी ख़ुद की मदद करने के लिए काम भी करती हूँ। जब मुझे यह पता चला तब मैं 8 सप्ताह की गर्भवती थी और इन सभी संदेहों से मेरी दुनिया टूट गयी थी। मैं ही क्यों? मैं तो हमेशा से बहुत सावधान थी, फिर क्यों? और फिर मैंने safe2choose को पाया! मैं इस संगठन का बहुत समर्थन करती हूँ।
सबसे पहले मैं उनके बारे में विश्वस्त नहीं थी या फिर जब मैं उन्हें एक संदेश भेजने का सोच रही थी तब भी यकीन नहीं था। बार- बार इस बारे में सोच कर अंत में मैंने लाइव चैट के माध्यम से उन्हें संपर्क करने का निर्णय लिया, यही प्रार्थना करते हुए कि वह जवाब देंगे और यह एक नक़ली वेबसाइट नहीं थी। । यह काम कर गया, उन्होंने मुझे जवाब दिया कि कितने सप्ताह की गर्भवती गर्भपात की गोलियां सुरक्षित रूप से ले सकती हैं और साथ ही साथ उन्हें सही तरह से उपयोग करने की जानकारी दी। वें बहुत ही अच्छे और सतर्क थे, हमारी चैट के दौरान।

मैंने ऑनलाइन परामर्श भरा और सलाहकारों ने कहा कि वे मुझे इस बात की पुष्टि के लिए एक ई-मेल भेजेंगे और मेरा ऑर्डर संसाधित किया जाएगा।

मैं यह जानकर हैरान थी कि शनिवार को, सलाहकारों से बात करने के दो दिन बाद, मुझे safe2choose से 3 ईमेल प्राप्त हुए। अंतिम ईमेल था कि मेरा पैकेज भेज दिया गया था और उन्होंने मुझे पैकेज को ट्रैक करने के लिए एक ट्रैकिंग नंबर भी दिया।

सोमवार की शाम को मुझे पैकेज प्राप्त हुआ। मैंने, कैसे गोलियों का उपयोग करें, इसके लिए मुझे ईमेल के माध्यम से भेजे गए दिशा निर्देशों का पालन किया।
पहले मैंने मिफेप्रिस्टोन की गोली ली और 30 घंटे बाद मिसोप्रोस्टोल की गोलियां। मुझे मिसोप्रोस्टोल के उपयोग करने के बाद उल्टी हुई और रक्तस्त्राव नहीं हुआ था, इसलिए मैंने पैकेज में आयी मिसोप्रोस्टोल की 4 अतिरिक्त गोलियाँ लीं – यही कारण है कि पैकेज 8 गोलियों के साथ आता है।

इसके बाद मुझे अपने गर्भाशय में बहुत तेज़ दर्द का अनुभव हुआ। यह दर्द मासिक-धर्म की ऐंठन के समान था, लेकिन शायद 3 गुना बदतर। मैंने मिसोप्रोस्टोल लेने के 1 घंटे बाद 800mg आइबूप्रोफेन की गोली ली, और इससे दर्द में कुछ असर नहीं हुआ। मेरा साथी इस सम्पूर्ण प्रक्रिया के दौरान मेरे साथ था कि यदि कुछ ग़लत हो।

जिन दुष्प्रभावों का मैंने अनुभव किया वो थे बहुत ज़्यादा ठंड लगना, मुझे बहुत ठंड महसूस हुई और मैं अपने गर्भाशय में महसूस हो रहे दर्द की वजह से हिल रही थी। मुझे अभी तक रक्तस्त्राव शुरू नहीं हुआ था लेकिन मिसोप्रोस्टोल लेने के 5 घंटे बाद रक्तस्त्राव शुरू हो गया।

लगभग दो सप्ताह के बाद मुझे रुक-रुक कर दर्द और रक्तस्त्राव का अनुभव हुआ, कभी बहुत हल्का और कभी कभी रक्त के थक्कों के साथ। आइबूप्रोफेन से दर्द में कुछ फर्क पड़ा।